Right to Repair Act 2022 | मरम्मत का अधिकार in Hindi Full Detail

Post’s Name : –Right to Repair Act 2022 | मरम्मत का अधिकार in Hindi Full Detail

वर्तमान युग भौतिकवादी युग हो गया है इस युग में मनुष्य अपने रहने के लिए अनेकों प्रकार की वस्तुओं का उपयोग करता है इसमें से इलेक्ट्रॉनिक सामान से लेकर वाहन के साथ-साथ अन्य उपयोगी वस्तुएं शामिल शामिल है मानव के लिए उपयोगी वस्तुओं की आपूर्ति किसी कंपनी के द्वारा बनाए गए उत्पाद से पूरा होती है इसलिए मानव उपभोक्ता की श्रेणी में आता है

उदाहरण के तौर पर यदि कोई व्यक्ति टेलीविजन खरीदना है और उसमें कुछ दिनों के बाद खराबी आ जाती है तो या तो व्यक्ति को नया टेलीविजन खरीदना होता है या फिर वह उसे मरम्मत के लिए बाजार ले जाता तो बाजार में कंपनी वाले यह कहते हैं कि इस वस्तु का यह पार्ट उपलब्ध नहीं है इसलिए यह दोबारा नहीं बन सकता इस प्रकार से वह वस्तु एक प्रकार से अनुपयोगी हो जाती है और ई वेस्ट या इलेक्ट्रॉनिक कचरा का पहाड़ खड़ा करते जाति इन्हीं को ध्यान में रखते हुए राइट टू रिपेयर लाया जा रहा है

जिसमें कंपनी उपभोक्ता के वस्तुओं को मरम्मत करने से मना नहीं कर सकती है इस कानून को लाने से यह फायदा होगा कि इलेक्ट्रॉनिक कचरा इकट्ठा होने से बचाया जा सकता है और उपभोक्ता का धन भी बचेगा तो इस ब्लॉग के माध्यम से आज हम आपको राइट टू रिपेयर ड्राफ्ट के बारे में सूचना देने जा रहे हैं जो भविष्य में एक कानून का रूप लेगा जिसकी रूपरेखा इस प्रकार हो सकती है

राइट टू रिपेयर कानून (Right to Repair Act 2022) को बनाने की आवश्यकता क्यों हुई? – Right to Repair Act 2022

उपभोक्ता मामलों के विभाग ने ‘मरम्मत के अधिकार’ पर एक व्यापक ढांचा विकसित करने के लिए अतिरिक्त सचिव निधि खरे की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया है।


मरम्मत का अधिकार कानून को संदर्भित करता है जिसका उद्देश्य उपभोक्ताओं को अपने स्वयं के उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की मरम्मत और संशोधित करने की क्षमता प्रदान करना है , जहां उपकरणों के निर्माता को उपभोक्ता को केवल उनकी पेशकश की गई सेवाओं का उपयोग करने की आवश्यकता होती है।


जब ग्राहक कोई उत्पाद खरीदते हैं, तो यह स्वाभाविक है कि उनके पास इसे पूरी तरह से स्वामित्व होना चाहिए। परंतु ऐसा नहीं होता है उत्पाद के खराब हो जाने पर निर्माता कंपनी कई तरह के बहाना बनाकर उत्पाद को संशोधन करने से मना कर देती है।


1. आम तौर पर, निर्माता अपने डिजाइन सहित स्पेयर पार्ट्स पर मालिकाना नियंत्रण बनाए रखते हैं, मरम्मत प्रक्रियाओं पर इस तरह का एकाधिकार ग्राहक के “चुनने के अधिकार” का उल्लंघन करता है।


2. कई उत्पादों के वारंटी कार्ड में उल्लेख किया गया है कि निर्माताओं द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं होने वाले संगठन से उनकी मरम्मत करने से ग्राहकों को अपना वारंटी लाभ खो जाएगा।


3. कंपनियां मैनुअल के प्रकाशन से भी बचती हैं जो उपयोगकर्ताओं को आसानी से मरम्मत करने में मदद कर सकती हैं।
4. तकनीकी सेवा/उत्पाद कंपनियां मैनुअल, स्कीमैटिक्स और सॉफ़्टवेयर अपडेट के लिए पूर्ण ज्ञान और पहुंच प्रदान नहीं करती हैं।


5. निर्माता “नियोजित अप्रचलन” की संस्कृति को प्रोत्साहित कर रहे हैं ।
6. यह एक ऐसी प्रणाली है जिसके तहत किसी भी गैजेट का डिज़ाइन ऐसा होता है कि वह एक विशेष समय तक ही रहता है और उस विशेष अवधि के बाद उसे अनिवार्य रूप से बदलना पड़ता है।


7. एक उत्पाद जिसकी मरम्मत नहीं की जा सकती है या नियोजित अप्रचलन के अंतर्गत आता है अर्थात कृत्रिम रूप से सीमित उपयोगी जीवन वाले उत्पाद को डिजाइन करना, न केवल ई-कचरा बन जाता है बल्कि उपभोक्ताओं को किसी भी मरम्मत के लिए नए उत्पादों को खरीदने के लिए मजबूर करता है ताकि इसका पुन: उपयोग किया जा सके।


8. भारत ने हाल ही में भारत में LIFE आंदोलन (पर्यावरण के लिए जीवन शैली) की अवधारणा शुरू की है।
9. इसमें विभिन्न उपभोक्ता उत्पादों के पुन: उपयोग और पुनर्चक्रण की अवधारणा शामिल है।
10. मरम्मत का अधिकार एलआईएफई के तहत लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायता करेगा।

भारतीय राइट टू रिपेयर का प्रस्तावित ढांचा कैसा होगा? – Right to Repair Act 2022

इस प्रस्तावित कानून के तहत निर्माताओं के लिए अपने उत्पाद विवरण को ग्राहकों के साथ साझा करना अनिवार्य होगा ताकि वे मूल निर्माताओं पर निर्भर रहने के बजाय स्वयं या तीसरे पक्ष द्वारा उनकी मरम्मत कर सकें।

राइट टू रिपेयर कानून (Right to Repair Act 2022) का उद्देश्य : – Right to Repair Act 2022

1. मूल उपकरण निर्माताओं (ओईएम) और तीसरे पक्ष के खरीदारों और विक्रेताओं के बीच व्यापार में सामंजस्य स्थापित करना।
2.  नए रोजगार भी पैदा करना है।

Right to repair Act किस देश का सिद्धांत है? – Right to Repair Act 2022

संयुक्त राज्य अमेरिका, जहां मोटर वाहन मालिकों के मरम्मत का अधिकार अधिनियम 2012

Right to repair की वैश्विक स्थिति क्या है? – Right to Repair Act 2022

अमेरिका, ब्रिटेन और यूरोपीय संघ सहित दुनिया भर के कई देशों में मरम्मत के अधिकार को मान्यता दी गई है ।
अमेरिका में, संघीय व्यापार आयोग ने निर्माताओं को अनुचित प्रतिस्पर्धा-विरोधी प्रथाओं को दूर करने का निर्देश दिया है और उन्हें यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि उपभोक्ता स्वयं या किसी तीसरे पक्ष की एजेंसी द्वारा मरम्मत कर सकें।

भारतीय राइट टू रिपेयर कानून के क्या लाभ हो सकते है? – Right to Repair Act 2022

1. यह छोटी मरम्मत की दुकानों के लिए व्यापार को बढ़ावा देने में मदद करेगा, जो स्थानीय अर्थव्यवस्थाओं का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।
2. यह बिजली के कचरे (ई-कचरे) के विशाल पहाड़ को कम करने में मदद करेगा जो महाद्वीप पर हर साल ढेर हो जाता है।
3. इससे उपभोक्ताओं का पैसा बचेगा।
4. यह उपकरणों के जीवन काल, रखरखाव, पुन: उपयोग, उन्नयन, पुनर्चक्रण और अपशिष्ट प्रबंधन में सुधार करके परिपत्र अर्थव्यवस्था के उद्देश्यों में योगदान देगा ।

भारतीय राइट टू रिपेयर कानूनकार्यान्वयन के लिए प्रस्तावित क्षेत्र: – Right to Repair Act 2022

1. कृषि उपकरण
2. मोबाइल फोन/टैबलेट
3. उपभोक्ता के लिए टिकाऊ वस्तुएँ
4. ऑटोमोबाइल/ऑटोमोबाइल उपकरण
5. अन्य मशीनीकृत वस्तु
इस तरह के कानून को अपनाने से रखरखाव सेवाओं की गुणवत्ता में काफी सुधार हो सकता है। 

Useful Link

क्या आप सरकारी नौकरी की अपडेट सबसे पहले पाना चाहते है ?Click Here
ऐसी ही और ज्ञानवर्धक जानकारी के लिएClick Here
Right to Repair Act 2022

Disclaimer : –हमारा उद्देश्य केवल आपको सही जानकारी देना है, इसलिए आपसे अनुरोध है कि वेबसाइट द्वारा प्रदान की गई सभी सूचनाओं को अच्छी तरह से जांच लें क्योंकि इसमें गलतियों की संभावना है। हमारी साइट पर कम से कम गलतियाँ होती हैं, लेकिन फिर भी अगर गलतियाँ होती हैं, तो हमारा आपको भ्रमित करने का कोई इरादा नहीं है। हम इन गलतियों के लिए क्षमा चाहते हैं।

One thought on “Right to Repair Act 2022 | मरम्मत का अधिकार in Hindi Full Detail

  • August 12, 2022 at 2:04 pm
    Permalink

    यदि कोई वस्तु खराब हो जाय तो घबराने की जरुरत नहीं है sarkar अब right to repair कानून ला रही hai। अत्यंत ही रोचक जानकारी

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.