15th President Draupadi Murmu |15 वीं राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू In Hindi 2022

Post’s Name : – 15th President Draupadi Murmu |15 वीं राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू In Hindi 2022

द्रौपदी मुर्मू प्रथम मूल भारतीय/ प्रथम नागरिक जो आदिवासी समुदाय से होगी।
Draupadi Murmu become India’s 15th President

द्रौपदी मुर्मू स्वतंत्रता के बाद जन्म लेने वाली पहली राष्ट्रपति होंगी।इसके अलावा वो अब तक की सबसे कम उम्र की राष्ट्रपति होंगी। वह दूसरी महिला हैं जो देश की राष्ट्रपति बनी हैं।द्रौपदी मुर्मू 25 जुलाई को पद और गोपनीयता की शपथ लेंगी।

द्रौपदी मुर्मू देश के 15 वीं राष्ट्रपति चुनी गई है। वह देश की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति होगी। द्रौपदी मुर्मू ने विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को बड़े अंतर से हरा दिया है। द्रौपदी मुर्मू ने राष्ट्रपति चुनाव में कुल 6,76,803 मतों के साथ जीत दर्ज की।जो कुल वोट का 64.03 फीसदी है।

द्रौपदी मुर्मू को प्राप्त  वोट = 6,76,803
यशवंत सिन्हा को प्राप्त वोट = 3,80,177

Draupadi Murmu, the 15th President of India. Murmu is contesting against Yashwant Sinha, Draupadi Murmu is a tribal leader from Rairangpur in the Mayurbhanj district in Odisha. Draupadi Murmu is a soft-spoken leader who made her way into the politics of Odisha with her sheer hard work. If Draupadi Murmu wins the Presidential elections 2022, she will become the first tribal and the second woman to hold the highest office.

Draupadi Murmu Biography

Name : Draupadi Murmu

Born : June 20, 1958

Birth Place : Uparbeda, Mayurbhanj, Odisha, India

Age : 64 years

Parents : Biranchi Narayan Tudu

Political Party : Bharatiya Janata Party

Education : Ramadevi Women’s University

Previous Offices :

• Governor of Jharkhand 2015-2021 तक वह झारखंड की राज्यपाल रहीं
• Minister of State for Fisheries and Animal
• Minister of State for Commerce and Transport
• Member of the Odisha Legislative Assembly
Children : Itishri Murmu

Spouse : Shyam Charan Murmu (passed away in 2014)

Draupadi Murmu Teaching Career

• Draupadi Murmu started out as a school teacher before entering state politics.
• Murmu worked as an assistant professor at the Shri Aurobindo Integral Education and Research Institute, Rairangpur
• Junior Assistant at the Irrigation department of the Government of Odisha.

Draupadi Murmu Political Career

 Draupadi Murmu joined the Bharatiya Janata Party (BJP) in 1997 and was elected as the councilor of the Rairangpur Nagar Panchayat.
• In 2000, she became the Chairperson of Rairangpur Nagar Panchayat and also served as the National Vice-President of BJP Scheduled Tribes Morcha.
• During the BJP and Biju Janata Dal coalition government in Odisha, Draupadi Murmu served in the following positions.
1. Minister of Fisheries and Animal Resources Development :August 6, 2002 to May 16, 2004
2. Former Odisha Minister : 2000
3. MLA from Rairangpur Assembly Constituency : 2004
4. Draupadi Murmu: Governor of Jharkhand : Draupadi Murmu took oath as the Governor of Jharkhand on May 18, 2015, and became the first woman Governor of Jharkhand. She was the first female tribal leader from Odisha to be appointed as a Governor of the Indian State.

Draupadi Murmu Awards & Honours

Draupadi Murmu, in 2007, received the Nilkantha Award for the best MLA ( Member of Legislative Assembly) by Odisha Legislative Assembly. 

द्रौपदी मुर्मू को किन-किन दलों ने समर्थन दिया है? 

द्रौपदी मुर्मू को निम्न दलों ने समर्थन दिया :
भाजपा, बीजेडी, वाईएसआर कांग्रेस, जनता दल सेक्युलरशिरोमणि अकाली दल, जेडीयू, एआईएडीएमके,
लोक जन शक्ति पार्टी, अपना दल (सोनेलाल), निषाद पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (अठावले), एनपीपी एनपीएफ, एमएनएफ , एनडीपीपी ,एसकेएम ,एजीपी ,पीएमके ,एआईएनआर कांग्रेस ,जननायक जनता पार्टी, यूडीपी ,आईपीएफटी,यूपीपीएल जैसी पार्टियों ने समर्थन दे दिया है।
विपक्ष में होने के बाद :
बीजेडी
वाईएसआर कांग्रेस
जनता दल सेक्युलर
अकाली दल
बहुजन समाज पार्टी
शिवसेना
जेएमएम 

राष्ट्रपति चुनाव में बिहार की भूमिका

विश्व में प्रथम गणराज्य से परिचित कराने वाला प्रदेश है बिहार राजनीतिक स्तर पर देखा जाए तो बिहार की स्थिति में बहुत ही निर्णायक परिवर्तन आया है ।


15 नवंबर 2000 को बिहार का विभाजन हुआ और इसके दक्षिण भाग  से झारखंड का गठन किया गया झारखंड के गठन से पूर्व बिहार में राज्य विधानसभा में 324 सीटें एवं संसदीय सीटों की संख्या 54 थी परंतु झारखंड के गठन होने के बाद बिहार विधानसभा में सीटों की संख्या 243 रह गई एवं लोकसभा में यह संख्या मात्र 40 रह गई विभिन्न दलों की राजनीतिक स्थिति में भी परिवर्तन आया। जिससे राष्ट्रपति के चुनाव तथा राज्यसभा के सदस्य के चुनाव में बिहार के अहम भूमिका रहती थी। सीटें कम होने होने से स्थिति थोड़ी कमजोर हुई है परंतु अभी भी वह महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

15वें में राष्ट्रपति चुनाव 2022 में भी बिहार की भूमिका अहम हैं । बिहार में कुल वोट मूल्य 81687 है। जबकि बिहार के एक विधायक का मत मूल्य 173 है। बिहार में सत्ता पक्ष एवं विपक्ष के पास तीनों सदनों में दलीय स्थिति को देखा जाए तो सत्ता पक्ष पूर्ण बहुमत में है जो 15 में राष्ट्रपति के विजय में मतों के अंतर को बढ़ा देगा सत्ता पक्ष एवं विपक्ष के मत को निम्न प्रकार से समझा जा सकता है।


बिहार में राजनीतिक दल


1. भाजपा(77) = लोकसभा 17+ राज्यसभा 04+ विधानसभा 77
2. राजद(86) = लोकसभा 00 + राज्यसभा 06+ विधानसभा 80
3. जदयू(66) = लोकसभा 16 + राज्यसभा 05 + विधानसभा 45
4. कांग्रेस(21) = लोकसभा 01+ राज्यसभा 01+ विधानसभा 19
5. रालोजपा(05) = लोकसभा 05+ राज्यसभा 00+ विधानसभा 00
6. लोजपा(01) = लोकसभा 01+ राज्यसभा 00+ विधानसभा 00
7. हम(04) = लोकसभा 00+ राज्यसभा 00+ विधानसभा 04
8. एम आई एम(01) : लोकसभा 00+ राज्यसभा 00+ विधानसभा 01
9.  वामदल(16) : लोकसभा 00+ राज्यसभा 00+ विधानसभा 16
10.  निर्दलीय(01) : लोकसभा 00+ राज्यसभा 00+ विधानसभा 01

बिहार विधानसभा में कुल वोट = 243
बिहार में लोकसभा सदस्यों की संख्या = 40
बिहार में राज्यसभा सदस्यों की संख्या = 16 वर्तमान चुनाव में


द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में बिहार के पास कुल मत दलों के अनुसार निम्न है। द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में बिहार के राजद ने समर्थन किया है जिसमें निम्न दल शामिल हैं एवं उनका मत मूल्य निम्न है


राजग = भाजपा +जदयू +लोजपा पारस +हम+ निर्दलीय+ चिराग लोजपा
राजग = 28189+22653+3540+692+173+708
राजग कुल मत मूल्य = 55955
15 वे राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष का मत मूल्य बराबर दलों के अनुसार निम्न है
विपक्ष = राजद +कांग्रेस+ माले+ भाकपा+माकपा +एम आई एम
विपक्ष = 18088+4703+2076+346+346+173
विपक्ष = 25732
इस प्रकार देखा जाए तो सत्ता पक्ष के पास राष्ट्रपति को बड़े अंतर से जिताने का 2 गुना वोट मूल्य है।

इस चुनाव के परिणाम से यह पता चलता है कि 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा के सदस्यों में से 241 सदस्यों के वोट किया जिनमें से 2 वोट रद्द हो गए तथा वह तो वोटों की संख्या में से 126 से वोट द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में जबकि 115 वोट यशवंत सिन्हा के पक्ष में रहे। परंतु क्रॉस वोटिंग के कारण द्रोपदी द्रोपदी मुर्मू को 133 सदस्यों ने वोट दिया जबकि 106 वोट विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को मिले।


15 वें राष्ट्रपति चुनाव में कुल कितने सांसदों एवं विधायकों ने वोट डाले?
4754 सांसद विधायकों ने वोट डाले
15 वें राष्ट्रपति चुनाव में कुल कितने मत वैध पाए गए एवं कितने अमान्य हुए ?
4701 वोट वैध पाए गए एवं अमान्य वोट 53
15 में राष्ट्रपति के तौर पर निर्वाचित द्रोपदी मुर्मू को कुल प्राप्त मत = 676803 (कुल मतों का प्रतिशत 64)
15 वें राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को प्राप्त मत = 380177

क्रॉस वोटिंग


राष्ट्रपति चुनाव में क्रॉस वोटिंग क्या है या क्रॉस वोटिंग से आप क्या समझते हैं?


भारतीय लोकतंत्र व्यवस्था में जहां भी चुनाव अप्रत्यक्ष तरीके से होता है वहां पर प्रत्येक राजनीतिक दल अपने सभी सदस्यों के लिए विहिप जारी करती है विहिप से तात्पर्य है कि आमुख दल का कोई भी सदस्य उसके द्वारा चुने गए व्यक्ति के विपक्ष में वोट नहीं डालेगा। अर्थात पार्टी के द्वारा यह तय कर दिया जाता है कि वोट किसे देना इसके इधर जब कोई उम्मीदवार किसी दूसरे उम्मीदवार को वोट डाल देता है तो इसे ही क्रॉस वोटिंग करते हैं

उदाहरण के तौर पर 15 में राष्ट्रपति चुनाव में ही विपक्षी दलों में क्रॉस वोटिंग जमकर हुई है जहां पर यह स्पष्ट कहा गया था कि विपक्ष के के किसी सदस्य द्वारा सत्ता पक्ष के उम्मीदवार को वोट नहीं दिया जाएगा परंतु विपक्ष के कुछ उम्मीदवारों के द्वारा अपनी अंतरात्मा की आवाज पर सत्ता पक्ष के उम्मीदवार को अपना वोट दिया 15 में राष्ट्रपति चुनाव में क्रॉस वोटिंग लिस्ट निम्न है
क्रॉस Voting
असम :  22
मध्य प्रदेश : 19
महाराष्ट्र : 16 
उत्तर प्रदेश : 12
गुजरात  : 10
झारखंड  : 10
बिहार  :  6
छत्तीसगढ़ :  6
राजस्थान  : 5
गोवा :  4

17  : सांसदों ने भी क्रॉस वोटिंग

मतों के अनुसार राजग उम्मीदवार को 523 सांसदों का समर्थन मिलना था, जबकि इसके उलट उसे 540 सांसदों का समर्थन हासिल हुआ। 

Other Useful Link

लेटेस्ट जॉब अपडेटClick Here
राष्ट्रपति के बारे में सम्पूर्ण जानकारीClick Here

Disclaimer : –

हमारा उद्देश्य केवल आपको सही जानकारी देना है, इसलिए आपसे अनुरोध है कि वेबसाइट द्वारा प्रदान की गई सभी सूचनाओं को अच्छी तरह से जांच लें क्योंकि इसमें गलतियों की संभावना है। हमारी साइट पर कम से कम गलतियाँ होती हैं, लेकिन फिर भी अगर गलतियाँ होती हैं, तो हमारा आपको भ्रमित करने का कोई इरादा नहीं है। हम इन गलतियों के लिए क्षमा चाहते हैं।

15th President Draupadi Murmu

3 thoughts on “15th President Draupadi Murmu |15 वीं राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू In Hindi 2022

  • August 2, 2022 at 9:10 pm
    Permalink

    राष्ट्रपति ke bare me sampurn evm full knowledge in detail and short one roof

    Reply
  • August 8, 2022 at 12:32 pm
    Permalink

    unique info about president of India

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.